जिंदगी सरल है। और वित्त भी। हम जानबूझकर चीजों को जटिल बनाते हैं और फिर खुद को इनमें उलझाए रखते हैं।

योजनाबद्ध तरीके से काम करने में कैलेंडर्स और चेकलिस्ट की भूमिका अहम है। जहां तक ​​पैसों के मामले में व्यवस्थित रहने की बात है, तो वित्तीय कैलेंडर से बेहतर कुछ भी नहीं है।

वित्तीय कैलेंडर

तो, क्या आप अपने वित्त को व्यवस्थित करने के लिए तैयार हैं? आइए, हर महीने के एजेंडे को तय करें। क्या अनिवार्य है और क्यों, साथ ही कुछ प्रमुख तिथियों पर नजर डालें। वित्तीय वर्ष के साथ तालमेल रखने के लिए अप्रैल के महीने से हम शुरुआत करेंगे।

अप्रैल

नए वित्तीय वर्ष की शुरुआत। आखिरी बजट में हुए बदलाव का आपके बचत और आयकर पर असर पड़ सकता है। इसलिए, नए कर प्रावधानों के अनुरूप योजना में परिवर्तन करें या अपने कर सलाहकार से परामर्श करें।

क्या करें: वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए अपने टैक्स सेविंग की योजना बनाएं। तय करें कि कहां और कैसे निवेश करना है। और इस योजना का अक्षरश: पालन करें।

क्यों: ताकि अंतिम तिमाही में कर बचत के लिए आप परेशान न हों और सिर्फ कर बचाने के लिए कोई भी अनुचित उत्पाद में ना फँस जाएं।

मुख्य तिथि: 01 अप्रैल – अप्रैल fool दिवस। कहीं आयकर बचत में आप fool यानि मूर्ख ना बन जाएं!

मई

गर्मी की छुट्टी का समय। आप कड़ी मेहनत कर रहे हैं और आपका पैसा भी। एक ब्रेक लें और परिवार के संग कहीं घूमने जाएं। तनाव को कम करने और जीवन में संतुलन बनाए रखने के लिए आराम जरूरी है। इसलिए अपने अवकाश का भरपूर आनंद लें।

क्या करें: यात्रा, होटल और उपहारों पर खर्च करें। लेकिन अपने बजट में रहकर और फिजूल खर्च से बचें।

क्यों: ताकि आपके क्रेडिट कार्ड का खर्च सीमित हो और आपकी वित्तीय योजना प्रभावित ना हो।

मुख्य तिथि: 15 मई – (अंतर्राष्ट्रीय) परिवार का दिन। आपके परिवार को आपके पैसे से ज्यादा आपके समय की जरूरत है।

जून

अपने बच्चों के भविष्य के लिए योजना बनाएं। उनकी उच्च शिक्षा और शादी जैसे दीर्घकालिक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश करें।

क्या करें: हर लक्ष्य को एक निश्चित राशि में निर्धारित करें और गणना में मुद्रास्फीति का अवश्य ख्याल रखें।

क्यों: ताकि लक्ष्य यथार्थवादी और आपकी पहुँच में हों।

मुख्य तिथि: जून का तीसरा रविवार – विश्व पिता दिवस। एक पिता के रूप में अपने दायित्वों का निर्वाह करें।

जुलाई

पहली तिमाही का अंत। अपनी वित्तीय योजना की समीक्षा करें। अपने सलाहकार से बात करें और यदि आवश्यक हो तो अपडेट करें।

क्या करें: पिछले वित्तीय वर्ष के लिए अपना आयकर रिटर्न दाखिल करें।

क्यों: ताकि बाद में आप जुर्माना भरने से बचें।

मुख्य तिथि: 31 जुलाई – आयकर रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि।

अगस्त

देश की स्वतंत्रता का जश्न मनाएं। और वैचारिक रूप से इसे अपने वित्त से जोड़ें। अपने वित्तीय सलाहकार की मदद से वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त करने की ओर अग्रसर हों।

क्या करें: जोखिम लेने की अपनी क्षमता का आकलन करें और तदनुसार एक वित्तीय योजना बनाएं।

क्यों: ताकि आप सही उत्पाद चुनकर अपने लक्ष्यों को आसानी से प्राप्त कर सकें।

मुख्य तिथि: 15 अगस्त – स्वतंत्रता दिवस। देश के रक्षक हमारे वीर  सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करें।

सितंबर

परिवार के सभी सदस्यों के लिए स्वास्थ्य बीमा और स्वयं के लिए जीवन बीमा (टर्म प्लान) लें। अपने सलाहकार द्वारा सुझाए बीमा राशि के अनुसार पर्याप्त कवर सुनिश्चित करें। नियमित रूप से प्रीमियम का भुगतान करें।

क्या करें: समुचित स्वास्थ्य और जीवन बीमा की सुरक्षा रखें।

क्यों: क्योंकि अपने प्रियजनों का आप ख्याल रखते हैं। तो इसका मान भी रखिए।

प्रमुख तिथि: 29 सितंबर – विश्व हृदय दिवस। सम्पत्ति का आनंद लेने के लिए स्वास्थ्य आवश्यक है।

अक्टूबर

अप्रत्याशित घटनाओं के लिए प्रावधान करें। बैंक बचत खाता या लिक्विड फंड में कम से कम तीन महीने का खर्च सुरक्षित रखें।

क्या करें: एक आपातकालीन फंड बनाएं और उसे हमेशा बनाए रखें।

क्यों: ताकि आप किसी संकट के समय असहाय और निराश न हों।

प्रमुख तिथि: 13 अक्टूबर – आपदा में कमी के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस। आपदा के समय तैयार नहीं होने के परिणामों से आपको अवगत कराने के लिए।

नवंबर

शक्ति की देवी, माँ दुर्गा और धन की देवी, माता लक्ष्मी की पूजा करने का समय। प्रार्थना करें और अपने परिवार के साथ खुशियाँ मनाएं। अपने घर की जरूरत के लिए कोई बड़ा सामान खरीदें।

क्या करें: यदि आवश्यक ना हो तो सोने के गहने खरीदने के लोभ से बचें।

क्यों: क्योंकि गहने या सिक्के के रूप में सोना एक अच्छा निवेश नहीं है। अपने पोर्टफोलियो के लिए आप गोल्ड ईटीएफ पर विचार कर सकते हैं।

मुख्य तिथि: 14 नवंबर – बाल दिवस। अपने बच्चों के लिए उपहार खरीदें, क्योंकि उनकी खुशी में ही आपकी खुशी है।

दिसंबर

कैलेंडर वर्ष का अंतिम महीना। थोड़ा आराम करें। मखमली कंबल में गर्माहट का आनंद लें। और याद रखें, आपकी कमाई हमेशा के लिए नहीं है।

क्या करें: अपने रिटायरमेंट की योजना बनाएं। सेवानिवृति के समय पर्याप्त राशि पाने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश करें।

क्यों: ताकि आप अपने सुनहरे वर्षों के दौरान स्वतंत्र रह सकें।

मुख्य तिथि: 07 दिसंबर – भारतीय सशस्त्र सेना झंडा दिवस। राष्ट्रीय सुरक्षा में अपना योगदान सुनिश्चित करें।

जनवरी

नए साल का स्वागत करें। नवीन ऊर्जा और प्रेरणा का लाभ उठाएं। समय से पहले वित्तीय स्वतंत्रता हासिल करने की प्रतिज्ञा लें।

क्या करें: अपने प्रियजनों से सम्पर्क कर उनके स्वास्थ्य और खुशी की कामना करें।

क्यों: क्योंकि हम इंसान हैं। और एक सभ्य समाज का हिस्सा हैं।

मुख्य तिथि: 26 जनवरी – गणतंत्र दिवस। राजपथ पर हो रहे भव्य परेड को देखें। हमारी रक्षा क्षमता और सांस्कृतिक विविधता से परिचित हों।

फरवरी

इस वेलेंटाइन डे पर अपने साथी से वित्त पर चर्चा करें और हर वर्ष ऐसा करें। अपने निवेश और लक्ष्य साझा करें। वित्तीय निर्णयों में अपने साथी को शामिल करें।

क्या करें: सभी वित्तीय कागजात और रिकॉर्ड एक ही स्थान पर रखें। अगर डिजिटल रूप से सहेजा गया है तो साथी से अपना पासवर्ड साझा करें।

क्यों: ताकि आवश्यकता पड़ने पर आपके साथी को परेशानी ना हो।

मुख्य तिथि: 14 फरवरी – वेलेंटाइन डे। कहीं आप भूल ना जाएं!

मार्च

वार्षिक मूल्यांकन का समय। अपने वित्तीय सलाहकार के परामर्श से अपने पोर्टफोलियो की समीक्षा करें। देखें कि क्या आप सही दिशा में हैं या कुछ बदलाव की जरूरत है। समय रहते अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए अपने एसआईपी की राशि को संवर्धित करें।

क्या करें: अपने वित्तीय योजना की वार्षिक समीक्षा करें।

क्यों: ताकि वे आपके लक्ष्यों से जुड़े रहें और आप वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त कर सकें।

मुख्य तिथि: 20 मार्च – (अंतर्राष्ट्रीय) खुशी का दिन। खुश रहें और खुश रखें।

एक बार एक शिष्य ने भगवान बुद्ध से पूछा, “मुझे खुशी चाहिए। कैसे प्राप्त करें?” भगवान बुद्ध ने कहा,“सर्वप्रथम ‘मुझे’ में निहित इस ‘मैं’ रूपी अहंकार को हटाओ। फिर ‘चाहिए’ में छिपे अपनी इच्छा को मिटाओ। तुम्हारे पास सिर्फ खुशी बचेगी।”

मुझे खुशी चाहिए

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *