आईए ! ‘म्यूचुअल फ़ंड निवेशक’ में आपका स्वागत है।

तो, आप मेहनत से अर्जित अपने धन को काम पर लगाना चाहते हैं। सही भी है, सिर्फ आप काम करें और आपका पैसा यूं ही बैंक बचत खाता में पड़ा रहे! यह ठीक नहीं।

अपने बचत को बढ़ाने का इरादा, सही दिशा में आपका पहला कदम है। और इस आशय से ‘म्यूचुअल फ़ंड निवेशक’ आना दूसरा महत्वपूर्ण कदम है।

A thousand-mile journey begins with the first step and can only be taken one step at a time. एक हजार मील की यात्रा भी पहले चरण से शुरू होती है और एक समय में केवल एक कदम उठाया जा सकता है। (और खुशी की बात यह है कि आप अपना पहला कदम उठा चुके हैं।)

चलिए, मुद्दे पर आते हैं। बाज़ार में उपलब्ध निवेश के विभिन्न विकल्पों में से सही विकल्प का चुनाव करना एक चुनौतीपूर्ण कार्य है।

आइए, निवेश के विकल्पों पर एक नज़र डालते हैं:

1.    बैंक / डाकघर (बचत खाता, सावधि जमा / फ़िक्स्ड डिपॉज़िट)

बचत खाता पर 3.5% ब्याज धन-वृद्धि के लिए काफी नहीं है। और यदि महँगाई दर (inflation) को ध्यान में रखें, (जिसे हम नज़र-अंदाज कर बहुत बड़ी भूल करते हैं) तो फ़िक्स्ड डिपॉज़िट (FD) का रिटर्न (7.0 – 5.0 = 2.0%) बचत खाता से भी कम हो जाता है।

क्या आप अपने धन को कम करने के लिए बैंक में जमा कराते हैं! सोचिए।

साभार: म्यूचुअल फ़ंड सही है

2.    सोना (जेवर, सिक्के, ETF)

स्वयं के उपयोग के लिए जेवर रखना और निवेश के लिए खरीदने में अंतर है। जेवर खरीदने और बेचने में कई अन्य खर्च भी शामिल हैं जैसे मजदूरी, अशुद्धियाँ, कटौती, आदि जिससे आपका वास्तविक रिटर्न बहुत कम हो जाता है।

पिछले पाँच वर्षों से सोने की कीमत लगभग स्थिर बनी हुई है।  और गोल्ड ETF (एक्स्चेंज ट्रेडेड फ़ंड) का रिटर्न सोने के अंतर्राष्ट्रीय भाव पर निर्भर करता है।

यदि आपने गोल्ड ETF में पाँच साल पहले निवेश किया होता तो आज आपका रिटर्न निगेटिव (negative) होता। यानि आपको नुकसान हो रहा होता।

3.    म्यूचुअल फ़ंड

आम निवेशकों के लिए निवेश का सर्वोत्तम माध्यम। ‘म्यूचुअल फ़ंड निवेशक’ में हम इसी की बात करते हैं। आगे हम विस्तार से म्यूचुअल फ़ंड के विषय में जानकारी देंगे।

4.    शेयर बाजार

लंबी अवधि में सर्वाधिक रिटर्न देने वाला माध्यम है यह। लेकिन इसकी चाल समझने में बड़े-बड़े जानकार भी धोखा खा जाते हैं। इसलिए आम निवेशकों को इससे बचने की सलाह दी जाती है।

और इक्विटि म्यूचुअल फ़ंड आपको बिना शेयर बाजार का ज्ञान लिए शेयर बाजार जैसा रिटर्न देता है, वो भी बहुत कम जोखिम के साथ।

साभार: म्यूचुअल फ़ंड सही है

5.    प्रॉपर्टि (जमीन, मकान)

निवेश का यह माध्यम भी लंबी अवधि में शानदार लाभ दे सकता है। लेकिन इसकी दो मुख्य खामियाँ हैं।

पहली – निवेश के लिए बहुत बड़ी राशि का उपलब्ध होना। छोटे निवेशक जमीन खरीदने की सोच भी नहीं सकते।

दूसरी – जब आपको पैसे की जरूरत हो, तो उचित दाम नहीं मिलता। इसे तरलता का अभाव या illiquidity भी कहते हैं।

आप इनमें से किन विकल्पों में निवेशित हैं? क्या मौजूदा निवेश आपको उचित रिटर्न दे रहा है? क्या आप अन्य विकल्पों पर विचार कर सकते हैं?

सभी विकल्पों पर गौर करने के बाद हम इस निष्कर्ष पर पहुँचते हैं कि छोटे निवेशकों के लिए धन वृद्धि का सबसे उपयुक्त माध्यम म्यूचुअल फ़ंड ही हैं

क्या आप मेरे विचार से सहमत हैं? अपने विचार व्यक्त करने के लिए दिए गए फॉर्म का प्रयोग करें।

“म्यूचुअल फ़ंड ही क्यों?” जानने के लिए यहाँ क्लिक करें।